खोया-पाया

मुख्य पृष्ठ  »  सेवाएं  »  खोया-पाया

1. परिचय

” कुम्भ में खो कर सालों बाद मिलना होगा सिर्फ़ फ़िल्मी कहानी “
” कुम्भ मेला पुलिस के खोया पाया केंद्र ने ७ साल के शिवम् को भटकने के दो घंटे के अंदर परिवार से मिलवाया “

व्यक्तियों की अधिक संख्या वाली जगहों पर अपने लोगों से संपर्क टूट जाने की घटनाएँ होती हैं| कुम्भ २०१९ में प्रथम बार कंप्यूटरीकृत खोया-पाया केंद्र स्थापित किया जा रहा है जो मेला क्षेत्र में अपनों से संपर्क टूटने के कारण बिछुड़ जाने वाले व्यक्तियों को ढूंढने में महतवपूर्ण भूमिका निभा सकेगा। संपूर्ण मेला क्षेत्र में ऐसे कुल 15 केंद्र स्थापित किए गए हैं, जो अत्याधुनिक संचार तकनीक से लैस होंगे एवं सुगम तथा प्रभावी कार्य हेतु विभिन्न इकाइयों एवं विभागों से अंतः परस्पर संबद्ध होंगे। इसके अतिरिक्त प्रत्येक खोया-पाया केन्द्र पर खोए-पाए व्यक्तियों की फोटो सहित सूचना एलईडी स्क्रीन पर प्रदर्शित की जाएगी। उस केन्द्र का नाम व स्थान, जहां वह व्यक्ति खोया या मिला है, को भी स्क्रीन पर प्रदर्शित किया जाएगा जिससे उसके परिजनों/मित्रों को खोए-पाए व्यक्ति को ढूंढने में आसानी हो। साथ ही सभी खोए-पाए व्यक्तियों के सम्बन्ध में सार्वजनिक उद्घोषणा प्रणाली (पब्लिक एड्रेस सिस्टम) एवं सोशल मीडिया (फेसबुक, ट्विटर) के माध्यम से भी सूचना प्रसारित की जाएगी।

कुम्भ के समय श्रद्धालुओं द्वारा पूर्ण सावधानी बरतने के बाद भी कभी किसी दस्तावेज या अन्य किसी सामान के खोने की घटना घटित हो सकती है। यदि किसी श्रद्धालु के साथ ऐसी कोई अप्रिय घटना होती है तो वो इसकी सूचना पुलिस को दे सकता है जिसके लिए वे थाने पर जाए बिना अपनी शिकायत ऑनलाइन दर्ज करा सकते हैं तथा ई-मेल के माध्यम से इसकी रसीद प्राप्त कर सकते हैं। शिकायत दर्ज कराने हेतु UPCOP मोबाइल ऐप पर जाकर अथवा नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर आगे की कार्यवाही की जा सकती है।


हेल्पलाइन नम्बर :100